HomeEducation NewsDigital Marketing Kya Hai जानिए पूरी जानकारी in Hindi 2023

Digital Marketing Kya Hai जानिए पूरी जानकारी in Hindi 2023

डिजिटल मार्केटिंग क्या है? (Digital Marketing Kya Hai)

डिजिटल मार्केटिंग एक ऐसा माध्यम है जिसमें विभिन्न इलेक्ट्रॉनिक उपकरण और इंटरनेट के सहारे सभी मार्केटिंग प्रयास शामिल होते हैं। यह व्यवसाय विभिन्न डिजिटल चैनलों का उपयोग करके वर्तमान और ग्राहकों से जुड़ने की एक महत्वपूर्ण संभावित तरीका है। इनमें सर्च इंजन, ईमेल, सोशल मीडिया और अन्य वेबसाइटों का उपयोग शामिल होता है।

Digital Marketing Kya Hai

डिजिटल मार्केटिंग के लिए कई रणनीतियाँ और चैनल उपलब्ध हैं, जिनका उपयोग व्यापारिक उद्देश्यों को पूरा करने में किया जाता है। इन दिनों लोग अधिकांश समय ऑनलाइन व्यतीत करते हैं, और इसलिए व्यवसायों के लिए डिजिटल मार्केटिंग एक अधिक प्रचलित और कुशल तरीका बन रहा है।

1990 और 2000 के दशक के बाद से डिजिटल मार्केटिंग ने ब्रांड और व्यवसायों के विपणन के लिए प्रौद्योगिकी का उपयोग करने का तरीका बदल दिया है। आजकल, डिजिटल प्लेटफ़ॉर्म विपणन योजनाओं का एक महत्वपूर्ण हिस्सा बन गया है और लोग भौतिक दुकानों की बजाय डिजिटल उपकरणों का उपयोग कर रहे हैं। इससे डिजिटल मार्केटिंग अभियान बन रहे हैं, जो अधिक प्रचलित और कुशल हैं।

खोज इंजन अनुकूलन (SEO), खोज इंजन मार्केटिंग (SEM), सामग्री मार्केटिंग, प्रभावित मार्केटिंग, सामग्री उत्पादन, अभियान मार्केटिंग, डेटा संचालित मार्केटिंग, ई-कॉमर्स मार्केटिंग, सोशल मीडिया मार्केटिंग, सोशल मीडिया अनुकूलन, ईमेल जैसे विभिन्न डिजिटल मार्केटिंग के तरीके उपलब्ध हैं। आजकल, ये तकनीकें बढ़ती टेक्नोलॉजी में भी ज्यादा प्रचलित हो रही हैं।

वास्तव में, डिजिटल मार्केटिंग अब गैर-इंटरनेट चैनलों तक फैली हुई है। इनमें डिजिटल मीडिया, जैसे मोबाइल फोन (एसएमएस और एमएमएस), कॉलबैक और ऑन-होल्ड मोबाइल रिंगटोन शामिल होते हैं। इस तरीके से गैर-इंटरनेट चैनलों को ऑनलाइन मार्केटिंग से अलग करने में मदद मिलती है, जिसे उपरोक्त विपणन विधियों के लिए एक अलग और विशिष्ट टर्म के रूप में देखा जा सकता है।

अलग अलग तरह के मार्केटिंग (Different Types Of Marketing)

आपका स्वागत है! डिजिटल मार्केटिंग के अलावा, वास्तव में मार्केटिंग कई तरीकों से की जाती है और हम उम्मीद करते हैं कि आप इन सभी मार्केटिंग प्रकारों के बारे में जानते होंगे। चलिए, हम कुछ मार्केटिंग के प्रकारों को एक-एक करके देखते हैं –

अख़बार मार्केटिंग (न्यूज़पेपर के माध्यम से मार्केटिंग)

यदि आपके घर पर एक न्यूज़पेपर आता है, तो आपने उसमें प्रचार की जरूरत के बारे में ज़रूर सुना होगा। न्यूज़पेपर में प्रचार तीन तरीकों से होता है – आर्टिकल के रूप में, बैनर के रूप में और इन्फोग्राफिक्स के रूप में। जिस तरीके के प्रचार की ज़रूरत होती है, उसे विभिन्न रूपों में दिखाया जा सकता है।

न्यूज़पेपर में प्रचार करने के लिए बहुत सारे पैसे की आवश्यकता होती है, जिसका मतलब है कि आपके पास धारणा योग्य वित्त होना चाहिए। इसके साथ ही इसमें कुछ नुकसान भी हो सकते हैं, लेकिन कुछ फायदे भी हो सकते हैं। यह सामान्य रूप से धनवान लोगों के लिए सार्थक है।

इसका अर्थव्यवस्था में काफी महत्वपूर्ण योगदान हो सकता है और एसईओ (SEO) के लिए भी यह अच्छा है। एक्टिव वॉयस में और संवादात्मक तरीके से लिखकर, यह आपकी खुद की पहचान बना सकता है जो सर्च इंजन में पहले स्थान पर रैंक कर सकती है। हम हमेशा 100% नवीनता और प्लेज़ियराइज़र रहते हैं, जिससे सामग्री अनुसंधान और पहचान के टेस्ट को पार कर सकते हैं।

अख़बार मार्केटिंग (न्यूज़पेपर के माध्यम से मार्केटिंग) के विषय में आपके पास एक विस्तृत लेख उपलब्ध है जिसमें इस तकनीक के लाभ, चुनौतियां और रणनीतियाँ दर्शाई गई हैं।

टेलीविजन विज्ञापन मार्केटिंग (Television Ads Marketing – टेलीविजन के माध्यम से मार्केटिंग)

टीवी पर आपने भी विज्ञापन देखें होंगे। कुछ-कुछ अंतराल पर विज्ञापन आते रहते हैं। इसके अलावा, जब आप कुछ देखते रहते हैं, तो स्क्रीन पर अगले विज्ञापन आते रहते हैं। आप अपने उत्पाद और बजट के हिसाब से चाहें जैसे भी विज्ञापन चलवा सकते हैं।

टेलीविजन पर विज्ञापन कराना सभी के बस की बात नहीं है। यह बहुत महंगा होता है और इसे भी सिर्फ धनवान लोग ही करवा सकते हैं। आपको प्रति सेकंड के लाखों में पैसे देने पड़ सकते हैं जो कि बेहद कीमती है।

रेडियो विज्ञापन मार्केटिंग (Radio Ads Marketing)]

हाँ बिलकुल, रेडियो के माध्यम से भी हमें कुछ मिनटों के अंतराल पर विज्ञापन देखने को मिलते हैं, जिसके लिए लोग पैसे खर्च करते हैं। यह तो सत्य है कि आजकल ज्यादातर लोग रेडियो को सुनने की बजाय टीवी या इंटरनेट का इस्तेमाल करते हैं, लेकिन फिर भी, रेडियो का भावी प्रतिष्ठान बहुत है। रेडियो पर हम लगभग सभी उद्योगों के विज्ञापन देखते हैं।

रेडियो विज्ञापन भी डिजिटल मार्केटिंग की तुलना में कुछ महंगे होते हैं और इसको अधिकांश लोगों के लिए अफोर्ड करना मुश्किल हो सकता है। इसके बिल का खर्च लाखों रुपये में हो सकता है, जिसके कारण इससे कम के बजाय बनाना मुश्किल होता है। इसीलिए, यह विज्ञापन माध्यम भी हर किसी के लिए उपलब्ध नहीं होता है।

होर्डिंग मार्केटिंग: डिजिटल युग में प्रचार का नया रूप

आपने सड़कों पर या उनके पास बड़ी बड़ी होर्डिंग ज़रूर देखी होगी, इसे हम Billboard Marketing के रूप में जानते हैं। यह सड़कों के साथ-साथ किसी घर के ऊपर भी लगाया जाता है, जैसा कि नीचे दिए गए फ़ोटो में देख सकते हैं।

इसका खर्च जगह और होर्डिंग की साइज़ पर निर्भर करता है। जितना बड़ा होर्डिंग लगाएँगे, उतना ज्यादा पैसे खर्च होंगे और जितना अच्छी जगह पर आप होर्डिंग लगवाएँगे, उतना ज्यादा आपको खर्च करने होंगे। उदाहरण के लिए, रेलवे स्टेशन जैसे जगह पर होर्डिंग लगवाने के लिए आपको करोड़ों रुपये खर्च करने पड़ सकते हैं क्योंकि वहाँ से हर महीने करोड़ों लोग गुजरते हैं।

इसके अलावा, ऑफ़लाइन प्रचार करने के बहुत सारे तरीके होते हैं लेकिन इन सभी तरीकों में ख़ास बात यह है कि आपको इसके लिए बहुत पैसे खर्च करने पड़ते हैं।

लेकिन ध्यान दें, अब आपको एक नया रास्ता दिखाने जा रहा हूँ। यदि आप Digital Marketing करते हैं तो आप बहुत कम पैसे से शुरुआत करके बहुत सारे लोगों तक अपने प्रचार या विज्ञापन को पहुंचा सकते हैं।

इस नए डिजिटल युग में बिलबोर्ड मार्केटिंग का नया रूप खुल रहा है, जिससे आपको विश्वास है कि आप अपने उद्देश्यों को पूरा करने में मदद मिलेगी और आपके प्रचार को सफलता तक पहुंचाने में सहायता मिलेगी।

Digital Marketing Meaning In Hindi (डिजिटल मार्केटिंग का मतलब क्या होता है?)

डिजिटल दुनिया के युग में जो भी सोशल मीडिया है, ब्लॉग है, यूट्यूब चैनल है या फिर कोई भी डिजिटल सामग्री है उसके माध्यम से पैसे कमाना या किसी वस्तु को बेचना या बेचवाना डिजिटल मार्केटिंग के अंदर आता है। इसके कई प्रकार भी होते है जिनके बारे में अभी बात करेंगे।

हमारे आसपास बहुत सारे ऐसे लोग हैं जिनको लगता है कि सिर्फ ब्लॉगिंग ही डिजिटल मार्केटिंग है, लेकिन ऐसा बिलकुल भी नहीं है। बहुत सारे लोगों को यह भी लगता है कि यूट्यूब पर वीडियो बनाना ही सिर्फ डिजिटल मार्केटिंग है, लेकिन ऐसा भी नहीं है। डिजिटल मार्केटिंग के बहुत सारे प्रकार हैं और आइये हम उनके बारे में भी एक-एक करके बात करते हैं।

Types Of Digital Marketing (डिजिटल मार्केटिंग के प्रकार)

डिजिटल मार्केटिंग वास्तव में बहुत व्यापक और रोचक क्षेत्र है, जहाँ न सिर्फ एक यूट्यूब चैनल खोलना होता है और न ही एक ब्लॉग बना लेना ही पर्याप्त है। इसमें कई सारे भाग होते हैं, जो अपने-अपने तरीके से आपको सफलता की और ले जाते हैं। चलिए, हम सारे भागों को एक-एक करके जानते हैं।

 ब्लॉगिंग – Blogging

यह डिजिटल मार्केटिंग का एक बहुत बड़ा एवं महत्वपूर्ण हिस्सा है। इसमें आपको एक ब्लॉग बनाना होता है और उसपर आर्टिकल लिखना होता है। जब लोग आपके आर्टिकल या ब्लॉग पर आएंगे, तब आप उन्हें उत्कृष्ट सामग्री से परिचित कर सकते हैं और उन्हें विशेष उत्पाद या सेवाओं को खरीदने के लिए प्रोत्साहित कर सकते हैं। आप इससे पैसे कमा सकते हैं, चाहे तो गूगल एडसेंस की मदद से अपने ब्लॉग पर प्रचार दिखा कर भी। ब्लॉगिंग आपको कम निवेश और बड़े पैसे के रास्ते पर ले जाने में मदद कर सकती है।

फेसबुक विज्ञापन – Facebook Ads

यदि आप फेसबुक का उपयोग करते हैं, तो आपने विज्ञापन अवश्य देखा होगा। यह आपको दो पोस्ट के बीच में मिल सकता है या फिर आप कोई वीडियो देख रहे होते हैं तो वीडियो के शुरुआत, वीडियो के बीच या वीडियो के अंत में इसे दिखाया जाता है। इसके अलावा भी, यह बहुत सारी जगहों पर दिखाई देता है।

ऐसे विज्ञापन को आप अपने व्यापार के लिए भी उपयोग कर सकते हैं। फेसबुक विज्ञापन मुफ्त नहीं है, इसके लिए आपको फेसबुक को कुछ पैसे देने पड़ते हैं। इस पैसे की राशि आपके व्यापार, विज्ञापन के प्रकार और आपके प्रदर्शित करने वाले लोगों के आधार पर निर्धारित होती है।

इसके लिए आपको लाखों करोड़ों रुपये की ज़रूरत नहीं है। आप फेसबुक विज्ञापन में 100-200 रुपये डालकर अपने व्यापार का प्रचार शुरू कर सकते हैं और फिर जैसे-जैसे आपके पास पैसे आते हैं, आप अपने प्रचार की राशि को बढ़ा सकते हैं। फेसबुक विज्ञापन डिजिटल मार्केटिंग का एक महत्वपूर्ण अंश है और इससे कई व्यापारों को फायदा हुआ है। आप फेसबुक विज्ञापन से अपने व्यापार को संवार सकते हैं या फिर दूसरों के लिए विज्ञापन करके पैसे कमा सकते हैं।

गूगल एड्स – Google Ads

गूगल एड्स को पीपीसी एड्स (PPC Ads) भी बहुत लोग बोलते हैं। पीपीसी का पूरा नाम पेर पर क्लिक (Pay Per Click) होता है। गूगल के एड्स बहुत तरह के होते हैं, जैसे कि सर्च इंजन एड्स, इमेज एड्स भी होते हैं और इसके अलावा भी तीन-चार और प्रकार के एड्स होते हैं।

सर्च इंजन एड:- जब आप गूगल पर कुछ सर्च करते हैं तो कुछ रिजल्ट ऐसे होते हैं जिनके URL के आगे “एड” लिखा रहता है, वही सर्च इंजन एड होते हैं।

इमेज एड:- जब भी आप किसी न्यूज़ वेबसाइट या ब्लॉग पर जाते हैं तो आपको इमेज के रूप में कुछ विज्ञापन दिख रहा होता है और जब उसके ऊपर बाएं ओर क्लिक करते हैं तो “एड्स बाय गूगल” लिखा हुआ आता है, वही इमेज एड या डिस्प्ले एड होता है। इसके लिए वेबसाइट्स को गूगल एडसेंस (Google AdSense) का अनुमोदन लेना पड़ता है।

इसके अलावा भी गूगल एड्स कई और प्रकार के होते हैं, लेकिन सबसे ज्यादा पॉपुलर यही दोनों प्रकार के विज्ञापन हैं। गूगल एड्स आप बहुत कम पैसों के साथ शुरू कर सकते हैं, इसके लिए आपको लाखों करोड़ों की जरूरत नहीं पड़ती हैं।

ईमेल मार्केटिंग – Email Marketing

ईमेल मार्केटिंग एक बहुत फायदेमंद मार्केटिंग है, जिसमें आपको बहुत ज्यादा लाभ होता है। एक सर्वे के अनुसार, यदि आप ईमेल मार्केटिंग में 1 डॉलर खर्च करते हैं, तो आप उससे 39 डॉलर का लाभ प्राप्त कर सकते हैं, जो काफी अच्छा है।

ईमेल मार्केटिंग करने के लिए आपको ईमेल सूची (Email List) बनानी पड़ती है, जिसके लिए आपके पास ट्रैफिक (यानी लोगों का संख्यागणना) होना बहुत जरूरी है। किसी भी प्लेटफॉर्म पर, आपके पास अच्छे संख्या में लोग होने चाहिए, जैसे कि ब्लॉग, यूट्यूब चैनल, या फिर किसी अन्य सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर आपके ऑडियंस (पढ़ने वाले या देखने वाले लोग) होने चाहिए।

यदि आपकी एक ईमेल सूची तैयार हो जाती है, तब उसके बाद आप उन्हें मानवता से भरा ईमेल भेजें। “Value” देने का मतलब है कि आप जिस भी नीचे (क्षेत्र) में काम कर रहे हैं, उसके बारे में उपयोगी जानकारी ईमेल के माध्यम से भेज सकते हैं, जिससे आपके ऑडियंस को आप पर भरोसा होने लगता है। इसके बाद जो भी आवश्यकता हो, आप अपने ऑडियंस से उसका विक्रय कर सकते हैं, जैसे कि कोई प्रोडक्ट या सेवा।

सामग्री विपणन – Content Marketing

आपने Google और YouTube जैसे प्लेटफ़ॉर्मों पर बहुत सारे आर्टिकल्स पढ़े होंगे और बहुत सारे वीडियो भी देखे होंगे, यही सभी चीजें कंटेंट मार्केटिंग के अंतर्गत आती हैं। Google और YouTube पर डाले गए आर्टिकल और वीडियो को सामग्री कहा जाता है और उसके माध्यम से पैसे कमाना सामग्री विपणन कहलाता है।

सिर्फ Google और YouTube ही नहीं, इसके अलावा और भी बहुत सारे प्लेटफ़ॉर्म हैं जहाँ पर आप सामग्री विपणन कर सकते हैं, जैसे कि LinkedIn, Quora, Medium, Reddit और भी बहुत सारे प्लेटफ़ॉर्म हैं।

एफिलिएट मार्केटिंग – Affiliate marketing 

जब हम किसी दूसरे के प्रोडक्ट या सर्विस को सेल करवाते हैं, तो हम उनसे प्रत्येक सेल के बदले पैसे लेते हैं, इसे हम एफिलिएट मार्केटिंग कहते हैं। जैसे कि मान लीजिए हमारे Facebook खाते पर 25 हजार फॉलोवर्स हैं और हमारे पास कोई प्रोडक्ट नहीं है जिसे हम उनसे बेच सकें, तो ऐसी स्थिति में हमलोग किसी दूसरे कंपनी या व्यक्ति से संपर्क कर सकते हैं। आप उनसे बोल सकते हैं कि हम आपके प्रोडक्ट को सेल करवाएंगे, लेकिन हर सेल के बदले हम कमिशन लेंगे।

इंटरनेट पर बहुत सारी ऐसी कंपनियां हैं जिनकी मदद से आप एफिलिएट मार्केटिंग कर सकते हैं, जैसे Amazon, Flipkart, Snapdeal और भी बहुत सारे।

इनकी वेबसाइट पर जाकर आप एक एफिलिएट अकाउंट बना सकते हैं और फिर इनपर उपस्थित प्रोडक्ट को सेल करवाके आप अच्छा खासा कमीशन कमा सकते हैं।

वेबसाइट विकास – Website Development

जैसा कि आपको पता होगा कि अब दुनिया धीरे धीरे डिजिटल हो रहा है और डिजिटल होती दुनिया में किसी भी बिज़नेस के लिए एक वेबसाइट बहुत जरुरी है। आप इसका फायदा उठा सकते हैं। चलिए देखते हैं कि कैसे आप इसका लाभ उठा सकते हैं –

आप वेबसाइट डेवलपर बन सकते हैं और कंपनियों के लिए वेबसाइट बनाकर पैसे कमा सकते हैं। वेबसाइट बनाना आज के दिन में बहुत आसान हो गया है। इसके लिए आप WordPress Development सीख सकते हैं।

सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन – SEO 

एसईओ यानि कि सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन एक बहुत जरुरी पार्ट है। यह डिजिटल मार्केटिंग में बहुत ज्यादा मायने रखता है। इससे आपको ज्यादा से ज्यादा ट्रैफिक आता है और ट्रैफिक आता है तब ही आपका प्रोडेक्ट ज्यादा सेल्स होगा और आपको अधिक से अधिक फायदा होगा।

एसईओ की मदद से आप अपने वेबसाइट को फ्री में Google पर रैंक करवा सकते हैं। इसके लिए आपको कोई पैसा लगाने की जरुरत नहीं है। लेकिन यदि आपको एसईओ नहीं आता है तब आपको एक एसईओ एक्सपर्ट चाहिए होगा जो आपसे अच्छा खासा पैसे लेगा।

सोशल मीडिया मार्केटिंग  – Social Media Marketing 

सोशल मीडिया मार्केटिंग एक ऐसा मार्केटिंग है जिसके बारे में लगभग हर किसी को पता होता है। जो भी चीजें आप सोशल मीडिया पर पढ़ते हैं या सोशल मीडिया के मदद से जो भी कुछ खरीदते हैं, वह सोशल मीडिया मार्केटिंग के अंदर आता है।

उदाहरण के लिए, आप किसी सोशल मीडिया इन्फ्लुएंसर को देख सकते हैं, वे सोशल मीडिया मार्केटिंग के माध्यम से ही पैसे कमाते हैं। ये कोई भी और कभी भी स्टार्ट कर सकते हैं। इसके लिए आपको पैसों की भी जरुरत नहीं है, आप जब चाहे तब स्टार्ट कर सकते हैं।

डिजिटल मार्केटिंग और ऑफलाइन मार्केटिंग में अंतर (Difference Between Digital Marketing And Offline Marketing)

Digital Marketing और ऑफलाइन मार्केटिंग के बारे में इतना समझने के बाद आपके मन में एक प्रश्न जरूर आया होगा कि आखिर दोनों में अंतर क्या है और हमे क्यों Digital Marketing करना चाहिए? चलिए देखते है-

सबसे पहले आप ये जान लीजिये कि डिजिटल मार्केटिंग और ऑफलाइन मार्केटिंग में बहुत अंतर है लेकिन उनमें मैं आपको कुछ ही बता रहा हूँ जो जानना आपके लिए बहुत जरुरी है।

डिजिटल मार्केटिंग में आप बहुत कम पैसे से शुरू कर सकते हैं, परन्तु ऑफलाइन मार्केटिंग में शुरू में ही लाखों में खर्चा आ सकता है। डिजिटल मार्केटिंग आपको विश्व के किसी कोने में बैठे हुए अपने व्यवसाय को प्रचारित करने की सुविधा प्रदान करती है, जबकि ऑफलाइन मार्केटिंग में आपको अपने व्यवसाय के लिए विशेष मार्केटिंग माहौल चाहिए होता है। डिजिटल मार्केटिंग में आप अपने प्रदर्शन को ट्रैक कर सकते हैं, लेकिन ऑफलाइन मार्केटिंग में ऐसा दूर दूर तक संभव नहीं है। डिजिटल मार्केटिंग कंपेन को आप जब चाहें शुरू और जब चाहें बंद कर सकते हैं, लेकिन ऑफलाइन मार्केटिंग में आपको एक समय निर्धारित करना पड़ता है। डिजिटल मार्केटिंग की मदद से आप अपने पुराने ग्राहकों को फिर से टारगेट कर सकते हैं, जो ऑफलाइन मार्केटिंग में ये संभव नहीं है।

Importance of Digital Marketing | डिजिटल मार्केटिंग का महत्व

बिजनेस के सफलता में उसकी मार्केटिंग टीम का वाकई बड़ा महत्व होता है।

मार्केटिंग के जरिए ही हम अपने प्रोडक्ट को लोगों तक पहुंचा पाते हैं, लोगों को उन्हें खरीदने और भरोसा करने के लिए प्रेरित कर पाते हैं। इसलिए, मार्केटिंग बिजनेस में अत्यंत महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है।

यदि हम डिजिटल मार्केटिंग की बात करें तो ट्रेडिशनल मार्केटिंग की तुलना में डिजिटल मार्केटिंग बेहद उत्कृष्ट है।

डिजिटल मार्केटिंग आम बजट में बेहतर परिणाम देने का सुविधाजनक माध्यम है।

इसलिए, सभी मार्केटिंग स्पेसलिस्ट की पहेली Digital Marketing है।

डिजिटल मार्केटिंग के महत्व के बारे में 

  • डिजिटल मार्केटिंग लो कॉस्ट माध्यम है।
  • डिजिटल मार्केटिंग हमारे बिजनेस और ग्राहकों के बीच पारदर्शिता बनाए रखती है।
  • डिजिटल मार्केटिंग थोड़े ही समय में बेहतर और अच्छे परिणाम देने वाला साधन है।
  • डिजिटल मार्केटिंग एक आधुनिक माध्यम है जिससे रिश्ते बनाने में सक्षम हैं।

आपके बिजनेस को विकसित करने के लिए डिजिटल मार्केटिंग के अनेक लाभ हैं और इसलिए इसे अपनाना आवश्यक होता है। यह आपको बढ़ते प्रतिस्पर्धा के बीच से निकालकर आपके उत्पाद और सेवाओं को अधिक से अधिक लोगों तक पहुंचाएगा और आपके व्यापार को नई ऊँचाइयों तक पहुंचाएगा।

इसलिए, आपको अपने बिजनेस के विकास के लिए डिजिटल मार्केटिंग को समझना और इसे अपनाना अत्यंत महत्वपूर्ण है।

Digital Marketing Tasks | डिजिटल मार्केटिंग के कार्य

डिजिटल मार्केटिंग एक ऐसा काम है जिसके द्वारा हम अपने उत्पादों को ऑनलाइन प्रमोट करते हैं, जिससे हमें अपने प्रोडक्ट या सर्विस के लिए बेहतर कस्टमर्स मिल सकते हैं। इसके जरिए हम अपने उत्पादों को ऑनलाइन प्लेटफ़ॉर्म्स पर बेहतर तरीके से प्रचारित कर सकते हैं।

डिजिटल मार्केटिंग दुनिया भर में तेजी से बढ़ती इंडस्ट्री है। चार्ट में दिखाया गया है कि अलग-अलग मार्केटिंग शाखाएँ कितना काम कर चुकी हैं। उदाहरण के रूप में, इंफॉर्मेशन टेक्नोलॉजी ने 5 ट्रिलियन यूएसडी का काम कर लिया है। इससे आपको अंदाजा हो जाएगा कि डिजिटल मार्केटिंग कितनी विशाल और लाभदायक फ़ील्ड है।

डिजिटल मार्केटिंग का लाभ यह है कि इससे हम ऑडियंस को सीधे और संवेदनशील तरीके से लक्षित कर सकते हैं। सही टारगेटिंग के साथ, हम अपने उत्पाद या सेवाओं को सही लोगों तक पहुंचा सकते हैं जिससे हमारी बिक्री और उद्योग की उपलब्धियां बढ़ती हैं।

इस दिशा में यह महत्वपूर्ण है कि हम समर्थन से भरपूर और अपने उद्योग में अच्छे से जानकारी रखें। नए और अद्यतित डिजिटल मार्केटिंग टूल्स का उपयोग करके हम अपने अभियांत्रिकी को बेहतर बना सकते हैं और आधुनिक प्रौद्योगिकियों को अपनाने के माध्यम से सफलता प्राप्त कर सकते हैं।

डिजिटल मार्केटिंग का एक और महत्वपूर्ण पहलू है ऑनलाइन ब्रांडिंग। अगर हम ऑनलाइन मार्केट में अपने ब्रांड को अच्छे से स्थानीय और विश्वसनीय बना लेते हैं तो हमारे उत्पाद और सेवाएं अधिक समर्थित और पसंदीदा होते हैं।

अच्छे और संवेदनशील डिजिटल मार्केटिंग सामग्री के लिए एक दृष्टिगोचर बृंद बनाने में हमें ध्यान देना चाहिए, जिससे हम लोगों को खींच सकें और उन्हें हमारे उत्पाद या सेवाओं के प्रति रुचि पैदा कर सकें। एक यादगार और प्रभावशाली डिजिटल मार्केटिंग कैंपेन बनाने में एक अच्छे कॉपीराइटर की मदद हमारे लिए बेहद मूल्यवान साबित हो सकती है।

इसलिए, अगर हम अपने उत्पाद या सेवाओं के लिए अधिक संवेदनशील और लाभदायक ऑनलाइन प्रचार करना चाहते हैं, तो हमें डिजिटल मार्केटिंग के साथ एक कुशल और विशेषज्ञ काम करने वाले कॉपीराइटर का सहारा लेना चाहिए। एक ऐसे कॉपीराइटर से मिलकर हम एक अच्छे वेबसाइट, सोशल मीडिया पोस्ट्स, ईमेल न्यूज़लेटर्स और अन्य डिजिटल सामग्री बना सकते हैं जो हमारे उद्योग में एक अलग पहचान बना सकते हैं और हमें अन्य बिजनेसों से आगे निकलने में मदद कर सकते हैं।

What is seo in digital marketing in Hindi

अब तक हमने Digital Marketing के बारे में बहुत कुछ जान लिया है, हां, यह बात सत्य है की Digital Marketing in Hindi में SEO (Search Engine Optimization) की क्या भूमिका है।

Search Engine Optimization यानी सर्च इंजन के बड़े सरे खेल का एक अहम टर्म है।

जब भी कोई व्यवसाय ऑनलाइन जाता है और अपनी वेबसाइट बनाता है, तो उसे Google में अच्छे से रैंक करवाने के लिए उसका Search Engine Optimization करना बहुत जरूरी होता है।

SEO का प्रमुख काम है की हमारी वेबसाइट या ब्लॉग को Google के सर्च इंजन रिजल्ट पेज (SERPs) में उपर लाना।

SEO (Search Engine Optimization) के बारे में ऊपर (1.1.1) विस्तार से बताया गया है।

Career in Digital Marketing | डिजिटल मार्केटिंग में करियर

डिजिटल मार्केटिंग में करियर की अपार संभावनाएं हैं।

आज भारत ही नहीं, वरन दुनियाभर में हजारों डिजिटल मार्केटिंग एजेंसियाँ काम कर रही हैं।

अगर आप डिजिटल मार्केटिंग करियर बनाना चाहते हैं तो मार्केटिंग मैनेजर, कंटेंट मार्केटिंग मैनेजर, सोशल मीडिया मार्केटिंग स्पेशलिस्ट, वेब डिजाइनर, एप डेवलपर, कंटेंट राइटर, सर्च इंजन मार्केटर, इनबाउंड मार्केटिंग मैनेजर, एसईओ एग्जीक्यूटिव, कनवर्जन रेट, और ऑप्टिमाइजर जैसे काफी सारे ऑप्शन आपके पास पहले से मौजूद हैं।

आप इनमें से किसी भी फिल्ड में अपना करियर बना सकते हैं। अगर आप डिजिटल मार्केटिंग के लिए कोर्स करना चाहते हैं तो यहाँ एक 6 महीने का कोर्स होता है।

ध्यान दें कि आपके द्वारा चयनित कोर्स अपने करियर को आगे बढ़ाने में मदद कर सकता है और आपको अपने निर्मित और मनचाहे मार्केटिंग पद के रूप में सफलता के नए मार्ग दिखा सकता है।

डिजिटल मार्केटिंग में सफलता प्राप्त करने के लिए, यह महत्वपूर्ण है कि आप नवीनतम डिजिटल मार्केटिंग ट्रेंड्स और उनके लागू करने के तरीके को समझें और अपने अनुसार अपने कैंपेन को तैयार करें। इसके अलावा, अपने टारगेट एडिएंस को समझें, रीच और एंगेज करने के लिए उचित सोशल मीडिया स्ट्रैटेजी का विकास करें।

ध्यान रखें कि विशेषज्ञों और दिग्गज ब्रांडों के साथ अनुभव प्राप्त करने से आपका प्रोफेशनल नेटवर्क भी बढ़ता है, जो आपके करियर के विकास के लिए बहुत महत्वपूर्ण होता है।

समझदारी से कोर्स का चयन करें, जिससे आपके पास उचित ज्ञान और तकनीक हो, और विभिन्न मार्केटिंग टूल और प्लेटफॉर्म का उपयोग करने का अवसर मिलता है।

आखिरकार, अपने करियर में सफल होने के लिए निरंतर अध्ययन और समय-समय पर नए ज्ञान का अध्यायन करना न भूलें, ताकि आप डिजिटल मार्केटिंग की दुनिया में अग्रणी स्थान बना सकें।

यहाँ दिए गए सुझाव आपको डिजिटल मार्केटिंग के करियर में आगे बढ़ने में मदद कर सकते हैं और आपके साथी जो इस क्षेत्र में पहले से काम कर रहे हैं, वे आपसे निर्देश और मार्गदर्शन प्रदान कर सकते हैं।

  • अब, जब आप इन उपायों को अपनाएंगे, तो आपका डिजिटल मार्केटिंग क्या है, आप उसमें कहाँ खड़े हैं और अगले कदम क्या हो सकते हैं यह जानने में मदद करेगा।
  • ध्यान दें कि डिजिटल मार्केटिंग बदलते समय के साथ बदलता रहता है, इसलिए आपको नए टूल, ट्रेंड्स, और तकनीकों के बारे में सीखने के लिए सदैव तैयार रहना चाहिए।
  • ध्यान रखें कि आपके द्वारा उत्पन्न और साझा किए गए कंटेंट का मूल्यांकन करें और अपने विचारों को उच्च-गुणवत्ता वाले सामग्री के साथ साझा करें।
  • अपने लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए निरंतर प्रयास करें और अपने दिये गए शब्दों को प्रकट करने में सक्षम हों।
  • आपका समय कीमती है, इसलिए सही निर्णय लें और अपने करियर को एक ऊँचाई तक पहुँचाएं।

आपके शब्द आपके डिजिटल मार्केटिंग सफ़लता की राह में एक महत्वपूर्ण कदम हो सकते हैं, इसलिए सीखें, अभ्यास करें, और अपने अध्ययन को बनाए रखें।

अब जाएं, डिजिटल मार्केटिंग की दुनिया में अपने परिचय को बनाएं और अपने करियर को नई ऊँचाइयों पर ले जाएं।

Digital Marketing में टॉप रिक्रूटर्स

डिजिटल मार्केटिंग में कई क्षेत्रों में कई सारे रिक्रूटर्स मौजूद हैं। इनमें से कुछ टॉप रिक्रूटर्स निम्नलिखित हैं:

  1. गूगल
  2. फेसबुक
  3. आईप्रोस्पेक्ट इंडिया
  4. वैटकंसल्ट
  5. वेबचटनी
  6. मिरम इंडिया
  7. क्वेसर मीडिया
  8. पिनस्टॉर्म
  9. आईस्ट्रैट
  10. बीबीसी वेबवाइज

Digital Marketing salary | डिजिटल मार्केटिंग सैलरी

जैसा कि हम जानते हैं, किसी भी प्राइवेट फ़ील्ड में सैलरी फिक्स नहीं होती है। वैसे ही, डिजिटल मार्केटिंग के क्षेत्र में भी आपको अपने अनुभव और योग्यता के हिसाब से अलग-अलग सैलरी मिलती है। यदि आपके पास अच्छा अनुभव है और साथ ही मान्यता प्राप्त संस्थान से डिग्री है, तो आपको लाखों रुपए सालाना का पैकेज मिल सकता है। नीचे कुछ जॉब्स की डिटेल्स दी गई हैं:

डिजिटल मार्केटिंग मैनेजर Rs. 30,000 से Rs. 1,00,000 Per Month
कंटेंट मार्केटिंग Rs. 15,000 से Rs. 30,000 Per Month
PPC एनलिस्ट Rs. 7,000 से Rs. 12,000 Per Month
SEO विशेषग्य Rs. 7,000 से 12,000 Per Month
सोशल मीडिया मार्केटिंग Rs. 20,000 से Rs. 35,000 Per Month
E Mail मार्केटिंग Rs. 10,000 से Rs. 15,000 Per Month

 

Digital Marketing in Hindi course | डिजिटल मार्केटिंग कोर्स

डिजिटल मार्केटिंग कोर्स वह पाठ्यक्रम है जो ऑनलाइन सोशल मीडिया के माध्यम से किसी भी सर्विस या प्रोडक्ट के प्रमोशन की पूरी स्ट्रैटेजी के बारे में ट्रेनिंग प्रदान करता है।

भारत में इस कोर्स को कई संस्थान अध्यायनकरण करते हैं, जिनमें से कुछ महत्वपूर्ण संस्थानों की लिस्ट निम्नलिखित है:

  1. सिम्प्लीलर्न, बेंगलुरु
  2. दिल्ली स्कूल ऑफ इंटरनेट मार्केटिंग, दिल्ली और बेंगलुरु
  3. न्यू दिल्ली बीआईएमसीए, दिल्ली
  4. इंस्टीट्यूट ऑफ डिजिटल मार्केटिंग इन हिंदी, मुंबई
  5. इंटरनेट मार्केटिंग स्कूल, कोलकाता
  6. लर्निंग कैटलिस्ट, मुंबई
  7. डिजिटल विद्या की शाखाएं, भारत भर में
  8. ऑल इंडिया मैनेजमेंट एसोसिएशन, दिल्ली

ये संस्थान उच्च गुणवत्ता वाले डिजिटल मार्केटिंग कोर्स की प्रशिक्षण देते हैं और आपको इस फील्ड में एक उत्कृष्ट करियर बनाने में मदद कर सकते हैं।

Digital Marketing course fees | डिजिटल मार्केटिंग कोर्स फीस

भारत में डिजिटल मार्केटिंग की लागत विभिन्न अनुकूलनों के अनुसार भिन्न भिन्न होती है, और यह Rs. 10,000 से लेकर Rs. 60,000 तक जा सकती है। यहां एक अच्छी तरह से समझने के लिए, हम डिजिटल मार्केटिंग के कुछ मुख्य क्षेत्रों के विवरण प्रस्तुत कर रहे हैं:

  1. विज्ञापन प्रचार और संचार (Advertising and Communication): इसमें विज्ञापन प्रसारण, सोशल मीडिया मार्केटिंग, ईमेल मार्केटिंग, एसएमएस प्रचार और इंफ्लूएंसर मार्केटिंग शामिल हो सकते हैं। यह एक प्रासंगिक तरीका है अपने लक्ष्य ग्राहकों तक अपने संदेश को पहुंचाने का। विज्ञापन प्रसारण के लिए आपको विज्ञापन बजट, सामग्री विकसित करने की ख्वाहिश, और पब्लिक के साथ संवाद करने के लिए रूचि का विचार करना होगा।
  2. वेबसाइट और खोज इंजन अनुकूलन (Website and Search Engine Optimization): वेबसाइट बनाना और उसे खोज इंजनों के लिए अनुकूलित करना एक महत्वपूर्ण कदम है। यह आपके वेबसाइट को खोज इंजन पर अधिक दृश्यमान बनाकर आपको अधिक विजिटर्स और ग्राहकों को आकर्षित कर सकता है। यह एक लंबी अवधि तक लाभकारी हो सकता है, लेकिन इसके लिए निवेश की आवश्यकता हो सकती है।
  3. सोशल मीडिया और सामाजिक परिवेश (Social Media and Social Environment): सोशल मीडिया ने ऑनलाइन पेशेवर विकास में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। आपके व्यवसाय के लिए सोशल मीडिया प्लेटफ़ॉर्म्स पर अपने विचारों, सेवाओं, और उत्पादों को साझा करने का यह एक अच्छा तरीका है। इसे प्रभावी ढंग से संचालित करने के लिए आपको अच्छे समय का निर्धारण करना होगा और सामाजिक परिवेश को समझने की क्षमता होनी चाहिए।
  4. डिजिटल मीडिया के साथ सहयोग (Collaboration with Digital Media): आप अपने व्यवसाय के लिए विशेषज्ञों या डिजिटल मीडिया एजेंसियों की सहायता भी ले सकते हैं। यह एक बेहतर रणनीति है जो आपको उच्च गुणवत्ता और प्रभावी परिणाम देने में मदद कर सकती है।

यदि आप डिजिटल मार्केटिंग में सफलता प्राप्त करना चाहते हैं, तो यह महत्वपूर्ण है कि आप अपने लक्ष्य और बजट को ध्यान में रखें, और एक प्रभावी रणनीति के साथ अपने संदेश को अपने उपभोक्ताओं तक पहुंचाएं। धीरे-धीरे, आप डिजिटल मार्केटिंग में अपने व्यवसाय के लिए एक पहचान बना सकते हैं और ऑनलाइन दुनिया में अग्रणी स्थान प्राप्त कर सकते हैं।

Conclusion: Digital Marketing Kya Hai In Hindi

इस लेख में, हमने देखा कि Digital Marketing Kya Hai और भारत में व्यापक रूप से विकसित हो रही एक प्रमुख प्रक्रिया है। यह विभिन्न ऑनलाइन प्लेटफ़ॉर्म्स का उपयोग करके व्यवसायों और ब्रांडों को उनके उत्पादों और सेवाओं को अपने लक्ष्य ग्राहकों तक पहुंचाने की एक उत्कृष्ट तकनीक है।

डिजिटल मार्केटिंग के विभिन्न क्षेत्र जैसे विज्ञापन प्रचार और संचार, वेबसाइट और खोज इंजन अनुकूलन, सोशल मीडिया और सामाजिक परिवेश और डिजिटल मीडिया के साथ सहयोग के बारे में जानकारी होना आवश्यक है। सही रणनीति के साथ डिजिटल मार्केटिंग व्यवसायों को अधिक विजिटर्स और ग्राहकों को आकर्षित कर सकता है और इससे व्यवसाय के लिए अधिक लाभ की प्राप्ति हो सकती है।

भविष्य में, डिजिटल मार्केटिंग की महत्वपूर्णता और उपयोग वृद्धि के साथ बढ़ते जा रहे हैं। उच्च तकनीकी ज्ञान और समय के साथ बदलते तौर-तरीके का ध्यान रखते हुए, व्यवसायों को इस डिजिटल युग में उत्कृष्ट प्रदर्शन के लिए अग्रणी स्थान बनाने के लिए डिजिटल मार्केटिंग उपायों को अपनाना आवश्यक होगा।

आखिर में, यह अवश्य है कि व्यवसायों को डिजिटल मार्केटिंग के अनुकूलन में तेजी से बढ़ने के लिए नए और सुगम तरीकों का उपयोग करना चाहिए। इससे उन्हें अधिक लाभ और सफलता की प्राप्ति हो सकती है, साथ ही भारतीय अर्थव्यवस्था के विकास में भी सहायक साबित हो सकती है।

इसलिए, डिजिटल मार्केटिंग एक राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर व्यापक प्रभाव बना सकती है और व्यवसायों को उनके उद्देश्यों को प्राप्त करने में मदद कर सकती है। इसलिए, हर व्यवसायी को डिजिटल मार्केटिंग के माध्यम से अपने व्यवसाय को आगे बढ़ाने का विचार करना चाहिए।

FAQs

Q. डिजिटल मार्केटिंग के लाभ क्या हैं?

Ans. डिजिटल मार्केटिंग के कई लाभ हैं, जैसे कि यह व्यापारियों को विश्वव्यापी रूप से अपने उपभोक्ताओं तक पहुंचने की सुविधा प्रदान करता है। यह उन्हें विकसित करता है और लाभकारी ग्राहक समृद्धि के लिए सहायक होता है। यह ब्रांड पहचान बढ़ाता है और उच्चतर गति के साथ विकसित होने में मदद करता है।

Q. डिजिटल मार्केटिंग के लिए आवश्यक टूल्स कौन से हैं?

Ansडिजिटल मार्केटिंग के लिए कई उपयुक्त टूल्स हैं, जैसे कि सोशल मीडिया प्रबंधन प्लेटफ़ॉर्म्स, ईमेल मार्केटिंग सॉफ़्टवेयर, खोज इंजन अनुकूलन टूल्स, कंटेंट टूल्स, और विश्लेषण और रिपोर्टिंग प्लेटफ़ॉर्म्स। ये टूल्स डिजिटल मार्केटिंग के प्रबंधन और निगरानी में मदद करते हैं।

Q. डिजिटल मार्केटिंग की उम्रदराज़ी क्या है और भविष्य में कैसे बदलेगी?

Ans. डिजिटल मार्केटिंग एक नई तकनीक है जो तेजी से विकसित हो रही है। इसकी उम्रदराज़ी बढ़ती हुई है और भविष्य में भी इसमें और नए उन्मुक्त प्रक्रियाओं और टूल्स के साथ अधिक विकास की संभावना है। व्यापारियों को इसमें अपनी रणनीतियों को नवीनीकृत करने और उन्हें ताजगी से भरने की जरूरत होगी ताकि वे संवेदनशील और परिवर्तनशील बने रह सकें।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments